संजीवनी बूटी है गिलोय ! giloy ke fayde aur nuksan in hindi

Spread the love

page contents hide

giloy ke fayde aur nuksan in hindi

giloy ke fayde aur nuksan in hindi
giloy ke fayde aur nuksan in hindi

giloy ke fayde aur nuksan in hindi=दोस्तों अगर आपको अमृत मिलजाए तोह आप क्या करेंगे ? जहीर सी बात है अगर आप को अमृत मिलजाए तोह आप उसे जल्दी से पिजयेंगे क्यों की हम सभी जानते है जो अमृत होता है वो हमारी उम्र बढ़ता है और पुरे जीवन हमारा स्वस्त ठीक रखता है हमे कभी भी रोगी नही होने देता है .

लेकिन दोस्तों आज की लेख हम अमृत तोह नही पर अमृत के समान एक औसदी है एक आयुर्वेदिक जरिबूटी के बारे में बात करेंगे जो की है गिलोय |

दोस्तों आज हम गिलोय के गुणों के बारे में बातएंगे ,जिसे गुडूची और अमृता के नाम से भी जाना जाता है ,अलग अलग जगह में गिलोय को अलग अलग नाम से जाना जाता है,आयुर्वेद में गिलोय का इस्तिमाल 100 में से 90 औसदी में गिलोय का इस्तिमाल किया जाता है |

दोस्तों गिलोय के ऐसे फायेदे होते है ,मतलब आपके पैरो के तलवे से लेके सर के बाल तक आपके सभी बीमारियों का इलाज है गिलोय |

गिलोय का सेवन कोई भी करसकता है बचे ,भूढ़े,जवान ,पुरुस,महिला गिलोय का सेवन हर कोई करसकता है ये सभी के लिए सूटेबल होता है |

लेकिन आज कल एक दिकत की बात ये है की बज्ज़र में आपको गिलोय का जूस मिलजाता है जैसे की पतंजलि ,बैदनाथ यदि. दोस्तों आपको बज्ज़र से गिलोय का जूस कभी नही खरीदना चाहिए चाहे वो किसी भी कंपनी का हो | दोस्तों जो गिलोय जूस का जूस बज्ज़र में मिलता है उसमे बहुत सरे अन्य पदारत और केमिकाल्स मिलाये जाते है ताकि गिलोय जूस खराब ना हो और वो उससे जादा लम्बे समय तक बेच सके ,

दोस्तों जो गिलोय का जूस बज्ज़र में मिलता है उससे बरे बरे लोहे की मशीनों में पिस कर निकला जाता है, जिससे होता ये है की उसके सारे पोसक तत्वा घसरण के कारणनस्त होजाते है और अगर ऐसे में हम उससे पीती है तोह हमे कोई फायेदा नही होता है .

लेकिन अगर आप गिलोय का सेवन आयुर्वेद के बतायेगाये तरीके से करेंगे तोह आपको इसके बहुत जबरदस्त फायेदे मिलेंगे जिसका आप अनुमान भी नही लगा सकते |

तोह दोस्तों आज हम इस लेख में गिलोय के के कुछ उन्ही फयेदो के बरे में बात करेंगे ,तोह आप इस लेख को ध्यान से जरुर पढ़े इस लेख में हम जानेंगे .

  • गिलोय क्या है
  • .गिलोय के फायेदे क्या है
  • गिलोय जूस के फायदे
  • और कितनी मात्र में इसका सेवन करना चाहिए ?

गिलोय क्या है? (What Is Giloy?)

गिलोय एक पारकर की आयुर्वेदिक बेल है ,जो आमतौर पे किसी भी जंगल ,झारियो में आसानी से मिलजाती है ,गिलोय को गुडूची और अमृता के नाम से भी जाना जाता है ,इसके पते दिल के आकर परकर के होते है और इसके पते का रंग डीप ग्रीन होता हा |

गिलोय का वज्ञानिक नाम (TINSOPORA CORDIFOLIA) है और ऐसा इसलिए कहा जाता है ,क्युकी इसके पते आकार दिल के जैस अहोता है ,गिलोय को अन्य अन्य जगहों में अन्य अन्य नामो से बुलाया जाता है जैसे :-

  • हिंदी में गिलोय ,गुडूची,अमृता
  • अंग्रेजी में giloy
  • गुजरती में गालो
  • मराठी में गुलबेल
  • तमिल में शिन्दिल्कोदी

गिलोय के फायेदे _ Giloy Benefits And Uses In Hindi

1 .स्ट्रेसऔर एंग्जायटी को दूर करता है गिलोय_ ( Remove stress and anxiety)

दोस्तों गिलोय जो है वो सभी तरह के मेंटल डिसऑर्डर और स्ट्रेस एंग्जायटी में ख़ास तौर पर दिजती है ,इसके अलवा झटके लगना ,मिर्गी के दौरे आना ,और वो लोग जो सराब पीना चोरना चाहते है उनके लिए तोह गिलोय का सेवन राम बाण से कम नही हा |

2. रेस्पिरेटरी सिस्टम को रखता है सवस्त_

दोस्तों गिलोय जो है ये आपके रेस्पिरेटरी सिस्टमरेस की छोटी से छोटी और बड़ी बड़ी से बड़ी परेशानियों को दूर करता है ,यानि सर्दी, झुकामा ,दमा ,खासी, गिलोय सभी तरह के परेशानियो को दूर करता है और उन्हें दूर ही रखता है .

3.डाइजेस्टीव सिस्टम रहता है स्वस्त_

दोस्तों पेट की छोटी से छोटी परेशानिया जैसे की भूक नही लगना,खाया पियाअछी तरह से हज़म नही होना ,पेट का अछी तरह से साफ़ नही होना से लेकर ,पेट की किसी भी तरह की परेशानिया जो किसी बैक्टीरिया या वायरस की वजह से हो गिलोय उसे जड़ से ख़त्म करदेत है !

4.उलटी को ठीक करता है गिलोय_

दोस्तों अगर पेट में कोई बैक्टीरिया के वजह से किसीको बहुत जादा उलटी ,दस्त और पेट में बहुत जादा दर्द या मरोर होरही हो तोह इसका कुल मिलकर एक इलाज होता है और वो है गिलोय ,इस तरह के मामले में अगर गिलोय देदिजाये तोह इसके 3 से 4 डोज में ही परेशानिया ही ख़तम होजाएगी|

5.डायबिटीज के लिए गिलोय _

डायबिटीज के मरीजों के लिए सरीर में ब्दोलड सुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए कई प्रकार के खादे पदारतो का सेवन करने से पहले 10 बार सोचना परता है ,और यह जरुरी भी है क्यों की सरीर में ब्लड सुगर लेवल बढ़ने के कारण डायबिटीज के मरीजों को कई तरह जोखिम का सामना करना परसकता है (ncbi) के अनुसार इसमें एंटी डायबिटिक गुण पाए जाते है इस कारण जो लोग डायबिटिक के सीकर नही हुए वो लोग इसके चपेट में आने से बचे रहेंगे और जिन लोगो को डायबिटीज होगया है वो इसके कारण होने वाली कई अन्य प्रकार के झोखिम से सुरक्षित रह सकते है | गिलोय में एक हाइपोग्लाईकैमिक तत्वा पाया जाता है जो की सरीर के ब्लड सुगर मात्र को काफी कम करदेता है और उसे कंट्रोल में रखता है ,जो की डायबिटीज वाले लोगो के बहुत जादा फायेदे मंद माना जाता है ,और कई आयुर्वेदिक डॉक्टर भी डायबिटीज में गिलोय लेने का सलहा देते है .|

6.पाइल्स ,फिसर,फिस्टुला से छुटकारा_

दोस्तों अगर आपकी फॅमिली हिस्ट्री पाइल्स,फिसर, फिस्टुला की है तोह जिस दिन भी आपको ये बात मालूम चले उसिदीन से अगर आप गिलोय लेना सुरु करदे तोह आपकी जिंदगी निकल जाएगी पर आपको इन तीनो में से एक भी परेशानी कभी नही होगी .

मगर दोस्तों अगर आपको पाइल्स है और ग्रेड 2 की पाइल्स है तोह आप अपना समय बेकार मत कीजिये आप सीधे अपना ऑपरेशन करवा लीजिये क्यों की अब आपको कभी न कभी ऑपरेशन करवाना ही परेगा .

7.मुह के छले और पेट के अल्सर को ठीक करता है गिलोय_

वो लोग जिनके मुह में साल भर छले होते ही रहते है या फिर वो लोग जिनके पेट में अल्सर हो तोह आप केवल गिलोय का सेवन करना सुरु कर्दिजिये और ये दोनों परेशानिया हमेशा हमेशा के लिए दूर होजाएगी |

8.गठिया सम्बंधित समस्यों से छुटकारा_

आज कल 40 के उम्र पर करने के बाद ही लोगो को गठिया की समस्या से झुझना परता है इससे बचने के लिए हमे युवा अवस्था में ही अपने खान पान पे विसेस ध्यान देने की जरुरत होती ही ,नेशनल सेंटर ऑफ़ बायोटेकनोलोजी इनफार्मेशन (ncbi) के अनुसार गिलोय का सेवन करने से इसमें मौजूद एंटी आर्थराइटिस गुण गठिया के कारण होने वाले दर्द को दूर करने के लिए प्रवाभी रूप से कारगर साबित होसकता है ,इसलिए अगर आपके घर में किसी भी बुजुर्ग को गठिया की समस्या है तोह उसे गिलोय का सेवन करवाया जासकता है |

9.सेक्सवल स्टैमिना और डिजायर को बढ़ता है गिलोय_

आज कल के भाग दौर के जीवन में स्ट्रेस और एंग्जायटी के साथ साथ ऐसे कई सी समस्य आजाती है जिसके बरे हम किसी को बता भी नही सकते और आज कल ये परेशानिया दिन पर दिन बढ़ते जारही है ,दोस्तों गिलोय एक प्राकृतिक वाजीकारक होता है जिसके वजह से गिलोय जो है वो सेक्सवल डिजायर ,सेक्स्वल प्लेसर और सेक्स्वल स्टैमिना तीनो को बेहतर करदेता है तीनो को बढ़ादेता है पुरुस और महिला दोनों के अन्दर.

10.स्किन को टाइट और चमकदार रखता है गिलोय _

दोस्तों अगर गिलोय का सेवन रोजाना किया जाये तोह गिलोय आपके स्किन को में कसावट लता है और साथ साथ चाहे स्किन में किसी भी तरह की परेशानिया हो जैसे की,मोहसे ,फोरे.फुंसिय, गिलोय हर तरह की परेशानिया को जड़ से ख़तम करदेता है और आपको सालो साल जवान रखता है |

11.पीलिया , जौंडिस को ठीक करता है

दोस्तों जौंडिस जिसे पीलिया भी कहा जाता है उसको सही करने के लिए गिलोय की कोई काट नही है ,अगर आपको या आपके परिवार में किसीको जौंडिस या पीलिया है तोह उसे गिलोय के डंठल का रस निकालकर जरुर पिलाये ,कुछ दिन के सेवन से ही पीलिया के परेशनी ख़तम होजाएगी |

12.पैंक्रियास को स्वस्त रखता है गिलोय _

गिलोय का सेवन करने से पैंक्रियास बहुत ही अछी तरह से काम करना सुरु करदेती है जिसके वजह से सरीर में इन्सुलिन बनना बढ़जाता है उससे होता ये है की कार्बोहायड्रेट यानि की सुगर एकदम सही तरह से मेटाबोलाइस होने लग जाती है और इसी वजह से गिलोय जो है ये उनलोगों के लिए बहुत ही जादा फायेदे मंद जिन्हें  हाइपोग्लाइसेमिया की परेशानी है या की फिर वो लोग जिनकी फॅमिली हिस्ट्री  हाइपोग्लाइसेमिया की है |

13. पुरुस योन समस्या का समधान_

अगर केवल आदमियों की बात की जाये तोह ,गिलोय जो है पुरुसो में होने होने वाली किसी भी योन समस्या को दूर करदेता है जैसे (नाईट फॉल) और ( शीघ्रपतन) इसको ठीक करने के लिए आपको गिलोय का सेवन अस्वगंधा के साथ करना होगा ,अस्वगंधा के साथ गिलोय गज़ब का काम करता है |

पर अगर आपको इरेक्टाइल डिस्फंक्शन की समस्या है तोह आप गिलोय और अस्वगंधा के साथ साथ पियाज का रस भी लिया जाता है |

14.बुखार की बूटी _

आज कल जब हमे या हमारे घर में किसी को बुखार ,फीवर होजाता हा तोह हम सीधा एलोपथी की दवाई दूकान पर भागते है , एलोपथी की दवाई से बुखार तोह ठीक होजाता है पर उसके साथ साथ आपको अन्य परेशानियों का भी सामना करना परता है जैसे सरीर में कमजोरी आना , आलसी लगना ,खाना खाने का मान नही करना , | आयुर्वेद में गिलोय को बुखार ठीक करने मे सबसे उपयोगी माना गया है| बुखार को ठीक करने के लिए आपको सुभ खली पेट गिलोय का जूस 1 कप हलके गर्म गुण गुने पानी में मिलाकर पिजना है ,2 से 3 डोज़ में ही बुखार जर से खतम होजायेगा|

15. इम्यूनिटी बढ़ता है गिलोय _

दोस्तों गिलोय हमारे सरीर में इम्युनिटी बूस्ट करने में इम्युनिटी को अछा करने में बहुत जादा लाभदायक है ,इसमें बहुत अधिक मात्र में एंटीओक्सिडेंट पाए जाते है जो आपकी सरीर में फ्री रडीक्लस और टॉक्सिक चीजों को सरीर से बहार निकालने में मदद करता है ,दोस्तों ये आपके सरीर के लीवर और किडनी से भी फ्री रादीकाल्स और टॉक्सिक पदारतो को बहार निकालता है ,तोह अगर आपको लगता है की आपकी इम्युनिटी बहुत जादा अछी नही है या आपको बचो की इम्युनिटी अछी नही है तोह आप गिलोय का पर्योग बिलकुल करसकते है .

दोस्तों वैसे तोह गिलोय के अनगिनत फायेदे है जिसके बरे में एकबार में बताना असंभव है ,तोह दोस्तों ये थी गिलोय के कुछ महत्पूर्ण फायेदे जिसके बरे में हमने आपको बताया |

giloy ke fayde aur nuksan in hindi

गिलोय के नुक्सान

दोस्त गिलोय के फायेदे के बार एमे तोह हम सभी जानते है ,पर दोस्तों गिलोय के कुछ नुक्सान भी है जिन्हें लोग नज़र अंदाज़ किये बैठे है ,गिलोय में एंटीपयरिटिक,एंटीइन्फ्लामेटिक, एंटीअर्थारिटिक और एंटीओक्सिडेंट गुण मौजूद होते है जो कई तरह के स्वस्त समस्यों से छुटकारा दिलाता है |

दोस्तों इसीके साथ गिलोय के नुक्सान भी है जैसे :-

1.पाचन शक्ति को फायदा भी और नुकसान भी_

वैसे तोह गिओय पाचन संभंधित स्वस्त समस्यों के इलाज में काफी लाभदायक होता है ,लेकिन कभी -कभी पेट को ये नुक्सान भी पहुचता है ,इसका सेवन आप चाहे जैसे भी करे इससे कब्ज की समस्या हो सकती है , इससे अपच की समस्या बढ़ सकती है जिससे पेट में दर्द और मरोर की परेशनी होसकती है |

2.ब्लड सुगर को करे परभावित_

गिलोय स्वस्त के लिए बिभिन कारणों से अछा होता है ,लेकिन कुछ मामलो में ये समान रूप से हानिकारक भी होता है ,गिलोय क सेवन से खून में मौजूद ब्लड सुगर लेवल कम होजाता है तोह जिनलोगो को लो ब्लड सुगर की समस्या है तोह यह उनके लिए एक खतरा पैदा करसकता है |, इसलिए उनलोगों को गिलोय का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर की सलहा जरुर लेना चाहिए |

3.गर्भावस्था में गिलोय का सेवन ना करे _

गर्भावस्था में या फिर स्थान पान कराने वाले महिलाओ को भी गिलोय का सेवन नही करना चाहिए इससे बचे को नकारात्मक असर परता है , इस तरह का कोई भी कदम उठाने से पहले अपने डॉक्टर से सलहा लेना बहुत जरुरी है |

4.सर्जरी के दौरान बंद करे गिलोय _

सर्जरी हुई है या सर्जरी करवानी है तोह भी गिलोय का सेवन बंद करदेना चाहिए ,गिलोय का सेवन करने से ब्लड सुगर प्रभावित होता है ऐसे में सर्जरी का घाव सूखने में काफी परेशानी या समय लग्सकता है ,ऐसा इसलिए होता है क्युकी गिलोय का ब्लड सुगर में कुछ दुस्प्रभाव होते है ,जो सर्जरी के दौरान और बाद में ब्लड सुगर के स्तर को प्रभावित करसकते है |

कैसे करें गिलोय का सेवन 

गिलोय का  काढ़ा_

गिलोय का  काढ़ा बनाना बहुत ही आसन है ,सर्दी ,बुखार ,खासी जैसे परेशानियों में गिलोय के काढ़ा का सेवन करने से सरीर में तुरंत राहत मिलती है | इसके लिए आपको चाहिए:-

  • गिलोय की डंडी ,आपको पते को हटादेना है , क्युकी गिलोय के सारे गुण उसके डंडी के अन्दर ही होते है |
  • अब आपको डंडी के छोटे छोटे टुकरे करलेने है ,अपने हाथो के उंगली के बराबर ,उसके बाद आपको उन टुकरोको ठीक से साफ़ करलेना है ,डंडी के ऊपर के छाल को चाकू के मदद से हटा देना है |
  • आपको अब एक पतीले में दो गिलास पानी में 4 से 5 तुलसी के पते , एक चुटकी कलि मिर्च ,2 लॉन्ग ,2 इंच अदरक डालकर पानी को उबालना है |
  • एक उबाल आजाने के बाद आपको उसमे गिलोय डालकर उसे तब तक उबालना है जब तक उसका पानी आधा ना होजये|
  • अब इसे छान कर चाय की तरह पीले|

गिलोय का जूस_

दोस्तों अगर आप सेहर में रहते है फ्लैट में रहते है है और आपको गिलोय की डंठल मही मिलपरही है ,तोह आप इस केस में गिलोय का जूस का इस्तिमाल करसकते है जो की आपको बज्ज़र में किसी भी आयुर्वेदिक दूकान में मिलजायेगा ,आपको आधे कप गुण – गुने पानी में 25 ml गिलोय जूस मिलकर पिजाना है ,आप इसका सेवन रोजाना सुभ सुभ खली पेट करसकते है |

गिलोय का टेबलेट_

गिलोय के जूस के साथ ही बज्ज़र में गिलोय के टेबलेट भी मिलते है , अगर दोस्तों आपको गिलोय के डंटल और जूस दोनों नही मिलरह है तोह आप गिलोय के टेबलेट का इस्तिमाल करसकते है ,एक आदमी के लिए दिन में 2 टेबलेट काफी होता है |

Disclaimer:

दोस्तों हमारे बतायेगये कसी भी जानकारी को इस्तिमाल करने से पहेल अपने डॉक्टर की सलहा जरुर ले | गिलोय गर्म मिजाज़ की होती है ,इसलिए गर्मी के मौसम में इसका सेवन करने से सरीर में और गर्मी होसकती है |

jai hind


Spread the love

Leave a Reply

%d bloggers like this: